सुरभि

बातें आज के वक्त की

14 Posts

13 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 8731 postid : 702507

ग़ज़ल ( कांटेस्ट )

Posted On: 12 Feb, 2014 Others,कविता,Contest,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इसको तेरे बिन कुछ भी दिखता कब है

पागल दिल मेरा, मेरी सुनता कब है ।

कोई शख्स हसीं इसको बहका न सका

ये दिल अब और किसी को चुनता कब है ।

ये आशिक तेरे दर पर मरना चाहे

काबा माने बैठा है, उठता कब है ।
बस तुझको पाना ही है मकसद मेरा

बिन इसके दिल और दुआ करता कब है ।
‘विर्क’ भले अपना मिलना लगता मुश्किल

पर उम्मीदों का सूरज ढलता कब है ।



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran